Tag Archives: kunj behari

Aarti Kunj Behari Ki….. 2016

Aarti Kunj Behari Ki …… आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की ॥ गले में बैजंती माला, बजावै मुरली मधुर बाला । श्रवण में कुण्डल झलकाला, नंद के आनंद नंदलाला । गगन सम अंग कांति काली, राधिका चमक रही आली । लतन में ठाढ़े बनमाली | भ्रमर सी अलक | (Fast) कस्तूरी तिलक | (Fast) चंद्र सी… Read More »